Acharya Manoj Awasthi Ji Maharaj

ग्राम पंचायत भी देगी आपको रोजगार

0

एक ग्राम पंचायत – एक रोजगार अभियान’ के अंतर्गत राजस्थान, उत्तरप्रदेश , के लिए भारतीय पशुपालन निगम लिमिटेड ने स्थानीय ग्रामीण दसवीं पास युवाओं को पशु स्वास्थ्य कार्यकर्ता (AHW) के लिए छह मासिक प्रशिक्षण दिए जाने के पश्चात उनकी ही ग्राम पचांयत में रोजगार उपलब्ध कराए जाने का प्रावधान किया है।

इस छः मासिक निःशुल्क प्रशिक्षण के दौरान बेरोजगार युवाओं को कृत्रिम गर्भाधान कार्य ,पशुधन प्रबंधन ,डेयरी विकास एवं व्यवसाय, पशुओं में होने वाले रोग की जानकारी एवं उपचार , अधिक दुग्ध उत्पादन के उपाय आदि का प्रशिक्षण प्रदान किया जाएगा।

इस प्रशिक्षण के पश्चात् निगम की ओर से 12000 रुपए मासिक का रोजगार प्रदान किया जाएगा। इसके अंतर्गत प्रशिक्षण में सिखाए गए कार्य को ग्राम पंचायत क्षेत्र में करना होगा। इस प्रशिक्षण में भाग लेने हेतु ऑनलाइन अथवा ऑफलाइन रजिस्ट्रेशन कर आवेदन करना होगा। इस प्रशिक्षण में आवेदन करते समय नियम शर्तों को ध्यानपूर्वक जरूर पढ़ लीजिए।

भारतीय पशुपालन निगम लिमिटेड का योगदान :

पशुपालन को बढ़ावा देने और पशुपालकों को प्रशिक्षित करने में भारतीय पशुपालन निगम लिमिटेड का बड़ा योगदान रहा है। इसकी स्थापना भारतीय पशुपालन विकास एवं अनुसन्धान संस्थान लिमिटेड के नाम से साल 2009 में की गई थी। जनवरी 2011 में भारत सरकार की अनुमति से इसे निगम के रूप में बदल दिया गया। निगम का कार्य क्षेत्र संपूर्ण भारत है। इसका रजिस्टर्ड कार्यालय जयपुर में स्थित है।

राष्ट्रीय पशुपालन उद्यमिता विकास मिशन
पशुपालन को बढ़ावा देने, पशुपालकों को प्रशिक्षण के माध्यम से आत्मनिर्भर बनाने और आम पशुपालकों तक न्यूनतम मूल्य पर कैटल फीड उत्पाद पहुंचाने के मकसद से राष्ट्रीय पशुपालन उद्यमिता विकास मिशन नामक परियोजना शुरू की गई। यह परियोजना पशुपालन ज्ञान केन्द्रों के माध्यम से राष्ट्रीय स्तर पर संचालित की जा रही हैं। इसके माध्यम से पशु सेवा केंद्रों के जरिए पशुपालकों को आर्थिक रूप से मजबूत करने का प्रयास किया जा रहा हैं। इसके तहत राष्ट्रीय स्तर पर एनजीओ/डेयरी/गौशाला/स्नातक बेरोजगारों के जरिए पशुपालन ज्ञान केंद्र खोले जा रहे हैं ।

प्रशिक्षण कार्यक्रम
यह प्रशिक्षण भारतीय पशुपालन निगम लिमिटेड द्वारा निशुल्क प्रदान किया जाएगा। इस निशुल्क प्रशिक्षण के तहत बेरोजगार युवाओं को कृत्रिम गर्भाधान कार्य, पशु धन प्रबंधन डेयरी विकास एवं व्यवसाय, पशुओं में रोगों की जानकारी तथा रोकथाम के लिए प्राथमिक उपचार,चारा विकास आदि का प्रशिक्षण प्रदान किया जाएगा।इस प्रशिक्षण के बाद निगम की ओर से 12000 रुपए प्रतिमाह की रोजगार सहायता भी उपलब्ध करवाई जाएगी।

निगम द्वारा उपलब्ध सेवाएं :
1. प्रशिक्षण प्राप्त पशुपालन कार्यकर्ताओं के माध्यम से निगम से पंजीकृत पशुपालकों को निशुल्क सेवाएं प्रदान करना।
2. ग्राम पंचायतों में पशु सेवा एवं कृत्रिम गर्भाधान केंद्र खोलकर पशु स्वास्थ्य कार्यकर्ता (AHW) को नियुक्त करना।
3.पशुपालक ग्रामीणों को स्थानीय स्तर पर आधुनिक पशुचिकित्सा सुविधाएं, कृत्रिम गर्भाधान, केटल फीड सप्लीमेंट, दवाइयां, टीकाकरण आदि सुविधाएं मुहैया करवाना ।

About Author

Leave A Reply